बुधवार, 16 दिसंबर 2009

गरीबी

होता है बेदर्द गरीबी का पहरा
दर दर की ठोकर खिलाती गरीबी !
गरीबी में ईमान इंसान बिकते
मानव को दानव बनाती गरीबी !
गरीबी के गर्दिश में गरिमा भटकती
भूपति को भिक्षुक बनाती गरीबी !
<><><><><><><><><><><><><><><>
अम्बु के अंक में, खिलता कमल पंक में,
फिर भी दुनिया में पाटा वो सम्मान है !
लाख गम  झेल कर तूभाँ से खेल कर
धर्म को जो निभाए वो इंसान है !
गरीबी में पल कर इन्सान महान होता है
गरीब तन और धन का, पर दिल का अमीर होता है !

3 टिप्‍पणियां:

  1. Are wah....
    chhote se shabdon me bahut badi baht kahdi aapne...!

    उत्तर देंहटाएं
  2. विचारप्रधान कविता, लय धीरे-धीरे ही सधेगी...प्रयास करते रहिये. divyanarmada.blogspot.com देखिये.

    उत्तर देंहटाएं

अपना अमूल्य समय निकालने के लिए धन्यवाद
क्रप्या दोबारा पधारे ! आपके विचार हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं !