मंगलवार, 11 मई 2010

मन सावन ----------- {कविता} ------------------- सन्तोष कुमार "प्यासा"

मन सावन



मन सावन मन उमड़ते, अभिलाषाओ के बादल


गिरती जीवन धरा पर, विचारो की बूंदें हर पल


आशाओं की दामिनी कौंधती मन में


सुख दुःख की बदली, करती कोलाहल


परिश्तिथियों की बौछारों से गीले होते जीवन प्रष्ठ


मन के मोर, पपीहे, दादुर , मन सावन में भीगने को बेकल


विचारों की बूंदों से ह्रदय के गढढे उफनाए


आशा-निराशा की सरिता बह चली, तीव्र गति से अविरल


मन सावन मन उमड़ते, अभिलाषाओ के बादल


गिरती जीवन धरा पर, विचारो की बूंदें हर पल

1 टिप्पणी:

  1. मनोभावों की सुन्दर प्रस्तुति के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं

अपना अमूल्य समय निकालने के लिए धन्यवाद
क्रप्या दोबारा पधारे ! आपके विचार हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं !