शुक्रवार, 21 मई 2010

पोर्न साइटों पर पूर्ण रूप से लगे प्रतिबन्ध !--------------सन्तोष कुमार "प्यासा"

जिस प्रकार आतंकवाद, भ्रष्टाचार समाज के लिए घातक है ! ठीक उसी प्रकार पोर्न साइटें भी समाज के लिए अति घातक है ! कुछ समय पूर्व सरकार ने साइबर क्राइम के रोक हेतु मुहीम चलाई थी ! जिसमे पोर्न साइटों को हटाना भी शामिल था ! लेकिन वर्तमान समय में भी कई पोर्न साइटें है जो समाज को दूषित कर रही है ! यहाँ एक बात गौर करने लायक है की, यदि कहीं किसी भी प्रकार की बईमानी या घूसखोरी हो रही हो तो उसकी खबर जनता को पहले हो जाती है ! बाद में सरकार को होती है ! कहने का तात्पर्य यह है की बईमानी और भ्रष्टाचार के फलने फूलने का कारण हमारी सरकार भी है ! सरकार हमेशा कहती है की अगर जनता सरकार का साथ दे तो जुर्म को मिटाया जा सकता है ! यहाँ पर मै सरकार का साथ देकर इस बात को जानना चाहता हूँ की आखिर सरकार अपनी बात पर कितना खरा उतरती है ! कोई भी व्यक्ति गूगल पर जाकर पोर्न लिख कर सर्च करता है तो कई पोर्न साइटें सामने आ जाती है !

हलाकि हमारी सरकार और साइबर पुलीस को यह बात पहले से पता होगी ! फिर भी मैंने इस बात को यहाँ लिखा ताकि पता चले की सरकार वही करती है जो कहती है या नहीं !

यदि सरकार या आपलोग मेरा साथ दें तो १५-30 दिन के अन्दर मै ऐसी साइटों की लिस्ट तैयार करके सरकार के पास भेज सकता हूँ ! फिर सरकार को ऐसी साइटों को बंद करने के लिए बाध्य होना पड़ेगा ! इससे सरकार की मदद भी हो जाएगी और ऐसी साइटों पर प्रतिबन्ध भी लगेगा !

पोर्न साइटें समाज के लिए भ्रष्टाचार और बईमानी से भी ज्यादा घातक है ! यदि आप सब हमारा साथ दे तो हम अपने समाज को ऐसी साइटों से मुक्त कर सकते है !

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सार्थक बहस जिसे और भी प्रभावी बनाया जा सकता है / वास्तव में सरकार अगर चाह ले तो इन साइटों पर तुरंत प्रतिबंध लगाया जा सकता है या इनके मालिक को कानूनी सजा दिया जा सकता है ,लेकिन सरकार में कुछ भी सार्थक करने की इक्षा शक्ति नहीं है / दिल्ली में कल पूरे देश के ब्लोगरों के सभा का आयोजन किया जा रहा है ,जो नांगलोई मेट्रो स्टेशन के पास जाट धर्मशाला में किया जा रहा है ,आप सबसे आग्रह है की आप लोग इसमें जरूर भाग लें और एकजुट हों / ये शुभ कार्य हम सब के सामूहिक प्रयास से हो रहा है /अविनाश जी के संपर्क में रहिये और उनकी हार्दिक सहायता हर प्रकार से कीजिये / अविनाश जी का मोबाइल नंबर है -09868166586 -एक बार फिर आग्रह आप लोग जरूर आये और एकजुट हों /
    अंत में जय ब्लोगिंग मिडिया और जय सत्य व न्याय
    आपका अपना -जय कुमार झा ,09810752301

    उत्तर देंहटाएं
  2. पोर्न साइट्स पर प्रतिबन्ध लगाना संभव नहीं है
    पहला तो आपको याद होगा की कुछ समय पहले सविताभाभी पर भारत सरकार द्वारा प्रतिबन्ध लगाया गया था पर वो प्रभावी नहीं हुआ क्यूंकि इस प्रतिबन्ध सा बचने के पिछले दरवाजे कई हैं .
    दूसरा की इन्टरनेट के शायद 50 % उपयोगकर्ता विशेषकर भारत में पोर्न साइट्स के लिए ही इन्टरनेट का प्रयोग करते है और भी कई पचड़े है .
    और अगर आपकी सूची के साइट्स पर प्रतिबन्ध लगा भी दिया गया तो नए डोमेन और प्रोक्सी साइट्स से वहां पहुंचा जा ही सकता है .

    उत्तर देंहटाएं
  3. पोर्न साइट्स पर प्रतिबन्ध लगाना संभव नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  4. Benami ji,
    mai ap se ek bat poonchhna chahta hun ki "kaun so kary kathin jag mahi
    jo na hoe tat tum chahi.

    aap ne kaha hai ki nae domain name aur proksi se vahan pahuncha ja sakta hai. to iske lie mai kahta hau ki aisi tuchch log jitni bar doamain badlege ham bhi utni bar inhe band karenge.
    porn site par lagam to lagegi hi ha bas thodi si kathinai jaroor hai. lekin koi bat nahi. bas aap sab hamara sath de to hum aisi saiton ko apne desh se nikal fekenge.

    उत्तर देंहटाएं
  5. santosh ji,

    list banane se yah karya nahi hoga, kuch protocol banane padenge, naye law pass hone chahiye uske baad hi yah lagaam lag payegi...

    उत्तर देंहटाएं

अपना अमूल्य समय निकालने के लिए धन्यवाद
क्रप्या दोबारा पधारे ! आपके विचार हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं !