बुधवार, 5 मई 2010

निराला की निराली कविता ---------- सन्तोष कुमार "प्यासा"


3 टिप्‍पणियां:

  1. पहली बार यात्रा की आपके ब्लॉग की ...रोचक रही .......ख़ुशी हुई ...बहुत गहरा सर्जन है एक अच्छी रचना पढने को मिली ....धन्यवाद

    http://athaah.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. पहली बार यात्रा की आपके ब्लॉग की ...रोचक रही .......ख़ुशी हुई ...बहुत गहरा सर्जन है एक अच्छी रचना पढने को मिली ....धन्यवाद


    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं

अपना अमूल्य समय निकालने के लिए धन्यवाद
क्रप्या दोबारा पधारे ! आपके विचार हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं !