शनिवार, 5 दिसंबर 2009

मै कवी हूँ

मै कवी हूँ मुझे भावनाओं के संग बहना पड़ता है


जो चाहते है सब सुनना, समाज में हो रहा है जो वही मुझे


कहना पड़ता है !


मै कवी हूँ मुझे भावनाओं के संग बहना पड़ता है


गरीब तुम हो तो गरीब मै नही हूँ, दुखी तुम हो तो दुखी मै भी हूँ


प्रकृति का यह नियम मुझे भी सहना पड़ता है !


मै कवी हूँ मुझे भावनाओं के संग बहना पड़ता है


पता है मुझे की समाज में फैली है बुराई, हर जगह खून खराबा


और कुछ नहीं तो घरेलू लड़ाई


पर क्या करूँ मजबूरन यहाँ रहना पड़ता है !


मै कवी हूँ मुझे भावनाओं के संग बहना पड़ता है !


आदमी के लहू का "प्यासा" है आदमी, इस कदर जुल्मो सितम


से ऊब गई है जमीं


बस यही सोंच कर बढ जाती है हिम्मत, पाप का महल चाहे


लाख बना हो मजबूत


एक न एक दिन उसे ढहना पड़ता है !


मै कवी हूँ मुझे भावनाओं के संग बहना पड़ता है !

8 टिप्‍पणियां:

  1. व्यथित, उथल-पुथल से भरे जीवन के सत्य

    उत्तर देंहटाएं
  2. मै कवि हूँ मुझे भावनाओं के संग बहना पड़ता है !............
    bahut hi achcha bhaawnaon ke saath to bahna hi padega nahi to kavi kaise?

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्यारे अनुज..... संतोष....

    मैं अभी आता हूँ..... फिर आराम से पूरा ब्लॉग देखूँगा..........

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप की रचना के भाव अच्छे हैं बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. भावनाओं के संग तो साधारण इंसान बहता है कवि को नियंत्रण करना होता है ।

    उत्तर देंहटाएं

अपना अमूल्य समय निकालने के लिए धन्यवाद
क्रप्या दोबारा पधारे ! आपके विचार हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं !